रवीश कुमार का प्राइम टाइम: कभी राम.. कभी कश्मीर के नाम पर.. कभी जाति, कभी ट्विटर के नाम पर
Listen now
Description
देखना चाहिए कि आपने जिस सोच के लिए दशकों पसीना बहाया है. उसका परिणाम क्या निकल कर आ रहा है. जब देखने का वक्त आया है तो कई लोग कहे जा रहे हैं कि देखा नहीं जा रहा है. जो भी ऐसा कहते हैं वो उनका झूठ है. जिस सोच को आपने निजी फैसलों में, राजनीतिक फैसलों में, सामाजिक फैसलों में जगह दी और दिये जा रहे हैं क्या आपको देखना नहीं चाहिए कि उसका जो नतीजा आया है वो कैसा दिख रहा है. इसके होते रहने से तो आप भाग नहीं रहे तो फिर इसके देखे जानें से क्यों भाग रहे हैं. कानपुर अगर दूर है तो क्या दिल्ली दूर थी.
More Episodes
हरियाणा दिल्‍ली सीमा, सिंघु बॉर्डर पर किसानों के प्रदर्शन स्‍थल पर एक शख्‍स की निर्ममता से हत्‍या के मामले के आरोपी निहंगों के दल के एक सदस्‍य ने समर्पण कर दिया है. प्रदर्शन स्‍थल पर शुक्रवार सुबह एक शख्‍स का शव पाया गया था जिसकी कलाई और पैर को निर्ममता से काट दिया गया था. अब सवाल यह उठता है कि...
Published 10/15/21
विनायक दामोदर सावरकर को लेकर देश में एक नई बहस छिड़ गई है. सावरकर पर इस बहस को जन्म दिया है रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह के बयान ने. राजनाथ सिंह के बयान के बाद सावरकर की भूमिका पर फिर सवाल खड़े हो गए हैं. इतिहासकारों के एक खेमे ने आरोप लगाया है कि इतिहास को बदलने की कोशिश की जा रही है.
Published 10/14/21
लखीमपुर खीरी कांड के बाद से उत्तर प्रदेश की सियासत गरमाई हुई है. विपक्ष, खासतौर पर कांग्रेस सत्तारूढ़ बीजेपी पर हमलावर है. योगी आदित्यनाथ और नरेंद्र मोदी सरकार पर विपक्ष के हमले बढ़ भी गए हैं. कांग्रेस गृह राज्य मंत्री अजय मिश्रा को मोदी सरकार से बर्खास्त करने की अपनी मांग पर डटी हुई है.
Published 10/13/21