Untitled Episode
Listen now
Description
जम्मू कश्मीर में क्या हो रहा है, यह जानना होगा तो आप किसी न किसी से पूछेंगे. सेना और पुलिस के बयान से किसी घटना की जानकारी मिलती है लेकिन राजनीतिक तौर पर कश्मीर के भीतर क्या हो रहा है इसकी आवाज़ तो उन्हीं से आएगी जिनकी जवाबदेही है. इतना कुछ हो रहा है फिर भी कश्मीर पर कोई विस्तृत प्रेस कांफ्रेंस नहीं है. इसके अलावा बाकी के पारंपरिक रास्ते या तो बंद हो चुके हैं या कमज़ोर कर दिए गए हैं जैसे राजनीतिक दल, नागरिक संगठन, NGO और मीडिया. 5 अगस्त 2019 को धारा 370 की समाप्ति के बाद इन सभी की हालत पर आप ग़ौर कर लेंगे तो पता चलेगा कि कश्मीर पर जानने के लिए आपके पास गोदी मीडिया ही है जो कि ख़ुद नहीं जानता कि वहां क्या हो रहा है. धारा 370 की समाप्ति के दो साल से भी अधिक समय हो चुके हैं, न तो राज्य की बहाली हुई है और न ही राजनीतिक प्रक्रिया को लेकर ठोस पहल.
More Episodes
Published 12/03/21
जैसे-जैसे पांच राज्यों में विधानसभा चुनाव करीब आ रहे हैं, सियासी सरगर्मियां बढ़ रही हैं. रैलियों का दौर चल रहा है. अरविंद केजरीवाल पंजाब में, प्रियंका गांधी उत्तर प्रदेश में, तो अखिलेश यादव बीजेपी के गढ़ बुंदेलखंड में तीन दिन से रैलियां कर रहे हैं.
Published 12/03/21
भारत एक 'सीरियस प्रधान' देश है. हम भारतीयों की सीरियसता की खास बात ये है कि हम हर बात को गंभीरता से लेते हैं. हंसने से पहले और हंसने के बाद सीरियस होना, हमारी सीरियसता का अभिन्न अंग है. हंसना दो सीरियसताओं के बीच एक छोटा सा ब्रेक है.
Published 12/02/21