रवीश कुमार का प्राइम टाइम : इंसाफ, खाद और महंगाई - लाइन में लगे रहो भाई
Listen now
Description
भांति-भांति के गोरखधंधों में शामिल अफसरों के सहारे किसी को फंसा देने के मामले भारत में एक नहीं, अनगिनत विश्वगुरु हैं. उनकी कहानियों से दिल दहलता है और बहलता भी है, लेकिन ऐसे अफसरों की तादाद इतनी है कि एक को हटाकर दूसरा लाया जाता है और खेल वही चलता है. आर्यन खान ही नहीं, इनके चंगुल में ऐसे कितने ही लोग फंसते चले जाते हैं.
More Episodes
Published 12/03/21
जैसे-जैसे पांच राज्यों में विधानसभा चुनाव करीब आ रहे हैं, सियासी सरगर्मियां बढ़ रही हैं. रैलियों का दौर चल रहा है. अरविंद केजरीवाल पंजाब में, प्रियंका गांधी उत्तर प्रदेश में, तो अखिलेश यादव बीजेपी के गढ़ बुंदेलखंड में तीन दिन से रैलियां कर रहे हैं.
Published 12/03/21
भारत एक 'सीरियस प्रधान' देश है. हम भारतीयों की सीरियसता की खास बात ये है कि हम हर बात को गंभीरता से लेते हैं. हंसने से पहले और हंसने के बाद सीरियस होना, हमारी सीरियसता का अभिन्न अंग है. हंसना दो सीरियसताओं के बीच एक छोटा सा ब्रेक है.
Published 12/02/21