यूएन न्यूज़ हिन्दी बुलेटिन, 22 सितम्बर 2021
Listen now
Description
संयुक्त राष्ट्र महासभा के 76वें सत्र के अवसर पर, यूएन रेडियो से मुख्य समाचार. ------------------------------------------------------------------------ संयुक्त राष्ट्र प्रमुख एंतोनियो गुटेरेश ने बुधवार को एक उच्चस्तरीय सम्मेलन में कहा है कि नस्लवाद को जड़ से उखाड़ फेंकने के लिये, 20 वर्ष पहले एक ऐतिहासिक घोषणा पत्र पारित किया गया था, लेकिन भेदभाव आज भी, हर समाज के दैनिक जीवन, संस्थानों और सामाजिक ढाँचे में जड़ें जमाए हुए  है. डरबन घोषणा पत्र और कार्रवाई कार्यक्रम (DDPA) की 20वीं वर्षगाँठ पर यूएन प्रमुख ने कहा... "डरबन घोषणा पत्र व कार्रवाई प्रोग्राम की 20वीं वर्षगाँठ, हमें यह सोचने-समझने का अहम मौक़ा मुहैया कराती है कि हम कहाँ खड़े हैं, और हमें पहुँचना कहाँ है. नस्लवाद और नस्लीय भेदभाव अब भी, संस्थानों, सामाजिक ढाँचों और हर समाज में हर दिन अपनी जड़ें जमाए हुए है. ढाँचागत नस्लभेद और व्यवस्थागत अन्याय, आज भी लोगों को उनके बुनियादी मानवाधिकारों से वंचित करते हैं." ---------------------------------------------------------------------- विश्व स्वास्थ्य संगठन के महानिदेशक डॉक्टर टैड्रॉस ऐडहेनॉम घेबरेयेसस ने कहा है कि अफ़ग़ानिस्तान में स्वास्थ्य ढाँचा ढहने के कगार पर है, जबकि राजधानी काबुल के रास्तों पर परिवारों को गम्भीर भुखमरी के जिन हालात का सामना करना पड़ रहा है, वो शहरी इलाक़ों और सूखे की मार से प्रभावित ग्रामीण इलाक़ों, सभी में एक जैसे ही गम्भीर हैं. यूएन स्वास्थ्य एजेंसी के प्रमुख का ये बयान ऐसे समय में आया है जब संयुक्त राष्ट्र के शीर्ष मानवीय सहायता अधिकारी मार्टिन ग्रिफ़िथ्स ने, अफ़ग़ानिस्तान के बेहद कमज़ोर स्वास्थ्य ढाँचे को समर्थन व सहायता मुहैया कराने के लिये, यूएन आपदा कोष से, साढ़े चार करोड़ डॉलर की रक़म जारी की है. मार्टिन ग्रिफ़िथ्स ने कहा कि अफ़ग़ानिस्तान के स्वास्थ्य ढाँचे को यूँ ही बिखर जाने देने
More Episodes
इस साप्ताहिक बुलेटिन की सुर्ख़ियाँ... कोविड-19 के मामलों में कमी, मगर वैक्सीन विषमता अब भी बरक़रार, प्रदूषण रहित व टिकाऊ परिवहन की सुलभता पर एक विशेष सम्मेलन, आलस और निष्क्रियता से बढ़ रही हैं बीमारियाँ, धनी देशों में हैं ज़्यादा लोग हैं आलसी, भारत में शिक्षकों की महत्ता व स्थिति पर, यूनेस्को की...
Published 10/15/21
दुनिया आज के दौर में, जलवायु संकट और जैव विविधता की हानि के कारण, बढ़ती भुखमरी का सामना कर रही है. ऐसे में, खाद्य व पोषण सुरक्षा एवं आजीविका की रक्षा के लिये तत्काल कार्रवाई की आवश्यकता है, विशेष रूप से हाशिये पर धकेले गए समुदायों के लोगों के लिये. यूएन न्यूज़ की अंशु शर्मा ने विश्व खाद्य दिवस,...
Published 10/14/21
इस साप्ताहिक बुलेटिन की सुर्ख़ियाँ... अफ़ग़ानिस्तान के कुन्दुज़ की शिया मस्जिद में बम हमले की कड़ी निन्दा, बड़ी संख्या में हताहत हुए लोग. अफ़ग़ानिस्तान में विस्थापितों व निर्बल समुदायों की ज़रूरतों को पूरा करने के लिये, यूएन एजेंसियों ने प्रयास तेज़ किये. कोविड-19 संकट से बाहर आने के लिये यूएन...
Published 10/08/21